Home New Updated Stories मदमस्त जवानी
Give me your site to advertise for Publisher to expand your business, websites much more.✹ Link Pop , ✹ Bennerd , ✹ Page Click Pop...Click Here.....
मदमस्त जवानी
Date : November 9, 2015, 4:12:25 AM
Languages : Hindi
PageView : 0000127074
Categoreies : New Updated Stories
मदमस्त जवानी
Madmast Jaawani

अर्जुन अपनी गर्ल फ़्रेन्ड को साथ लेकर चोदने के लिये गेस्ट हाऊस पहुँचा, अपने कमरे की चाबी लेकर जाने के लिये सीढ़ियाँ चढ़ ही रहा था कि सामने से आते युगल पर उसकी नजर पड़ी। सामने उसके दोस्त की बहन शेली किसी अजनबी के साथ बाहर आ रही थी। अर्जुन की समझ में आ चुका था कि शेली चुदवा कर आ रही है। अर्जुन को देख कर शेली का चेहरा फ़क हो गया। मगर अर्जुन जैसे कुछ भी ना देखने का अभिनय करते हुये अपनी गर्ल फ़्रेन्ड को ले कर कमरे में आ गया। वे दोनों लगभग दो घण्टे तक चुदाई करके होटल से बाहर निकले।

यह कहानी आप टॉप सेक्स वेबसाइट रूपसेक्स.कॉम (RoopSEX.CoM) पर पढ़ रहे हैं।

अर्जुन लखनऊ से दिल्ली आ कर नौकरी कर रहा था। शेली भी दिल्ली में किसी सोफ़्ट्वेयर कम्पनी में काम कर रही थी। दिल्ली में उन्होंने एक दूसरे को पहली बार देखा था, जबकि अर्जुन का लखनऊ में शेली के घर आना जाना था। शेली का भाई अर्जुन का दोस्त था।

अर्जुन और उसकी गर्ल फ़्रेन्ड जब होटल से निकले तो उसने देखा कि शेली रिक्शा स्टेण्ड के पास खड़ी उसी को देख रही थी। अर्जुन ने शेली को देखा और मुस्करा दिया।

शेली भी मुस्करा दी और बोली,"मुझे तुमसे बात करनी है... प्लीज इधर आओ !"

"ओह, क्यों नहीं, बताओ कि तुम कैसी हो और दिल्ली में कहाँ रहती हो?"

"एक सहेली के साथ एक फ़्लेट किराये पर लिया है... "

"चलो, कहीं कॉफ़ी पीते हैं, वहीं बातें करेंगे।"

दोनों एक कॉफ़ी हाऊस में पहुँच गये।

अर्जुन बताने लगा,"मै भी तुम्हारी तरह एक दोस्त के साथ किराये पर मधुवन सोसाइटी में एक फ़्लैट में रहता हूँ, यहाँ से दो किलोमीटर दूर है।"

"और वो लड़की ... ?"

"उह्ह्ह, वो तो मेरी एक दोस्त है, घर पर मेहमान आये हुये थे तो हम दोनों यहाँ आ गये। देखो किसी को घर में बताना मत !"

शेली ने अर्जुन की आँखों में झांका, उसे कुछ अपनापन सा लगा।

"अर्जुन मैं तुम्हारा अहसान मानूंगी, प्लीज मेरी भी कोई बात घर में किसी को मत बताना, बोलो ना, मानोगे मेरी बात?"

"अरे शेली, मै कोई तुम्हारा दुशमन थोड़े ही हूँ, अगर मेरी वजह से तुम पर कोई आंच आये तो लानत है मुझ पर, मैं भी चोर, तू भी चोर !"

"थैन्क्स अर्जुन, तुमने मेरे दिल का बोझ उतार दिया !"

बातों बातों में शेली थोड़ा खुलने लगी थी। वो भी अभी चुद कर आई थी, सो अर्जुन ने सोचा कि ये तो पट सकती है। वैसे भी शेली को घर में उसकी भारी और चौड़ी गाण्ड देख कर उसका लण्ड जोर मारने लगता था। उसे लग रहा था कि उसे चोदना अब और आसान है और शेली भी जान चुकी थी कि वो रंगे हाथ पकड़ी गई है। उसे लगा कि अब फ़ासला अधिक नहीं है।

"हम दोनों यहाँ पहली बार मिले मिले हैं, चलो आज मैं तुम्हें खाना खिलाऊंगा, घर पर तो तुमने कई बार खिलाया है।"

"पर कहाँ चलें... ?" शेली थोड़ा सा हिचकचाई।

"होटल में तो मजा नहीं आयेगा, खाना लेकर फ़्लैट पर चलें, अच्छा रहेगा ना ... फिर किसी की नजर में भी नहीं आयेंगे !"

"तुम्हारा दोस्त क्या कहेगा... ?" वो भी कुछ कुछ आश्वस्त हो चुकी थी।

यह कहानी आप टॉप सेक्स वेबसाइट रूपसेक्स.कॉम (RoopSEX.CoM) पर पढ़ रहे हैं।

"वो तो अपने जीजू और बहन के साथ चार दिन के लिये अब तक तो जा चुका होगा।"

"तो चलो, मैं अपनी सहेली को फोन कर देती हूँ कि मुझे आज देर हो जायेगी।"

"हाँ ये भी कह देना कि आज रात ना भी आ पाऊँ तो चिन्ता मत करना।"

शेली ने मुझे तिरछी नजरों से देखा और मुस्करा दी। अर्जुन भी यह देख कर मुस्करा दिया। दोनों ने एक दूसरे के दिल की बात समझ ली थी।

अर्जुन सामने के होटल में जाकर दो तन्दूरी चिकन और कुछ चपातियाँ ले आया, रास्ते से उसने एक व्हिस्की की बोतल भी ली और फिर दोनों घर पहुंच गये।

अर्जुन ने खाने का सामान शेली को दे दिया और कहा,"मै अभी स्नान करके आ रहा हूँ... तब तक तुम खाना लगाओ।"

"हाँ पहले तुम नहा लो, फिर मैं भी पानी डाल लूंगी। कितनी गर्मी है ! है ना?"

"अरे तो फिर क्या बात है... आ जाओ, साथ ही नहा लेते हैं... तुम अपना मुख उधर कर लेना और मैं दूसरी तरफ़ कर लूँगा।"

"धत्त ... तुम देख लोगे !" उसकी तिरछी नजर कह रही थी कि नहीं देखोगे तो मैं बुरा मान जान जाऊँगी।

"तुम्हारी कसम, नहीं देखूँगा !" उसने भी जैसे आँख मार कर बता दिया था कि एक बार कपड़े तो उतारो...

"तो ठीक है चलो... ! " उसने अपने कपड़े उतार दिये और ब्रा और पेन्टी में आ गई।

अर्जुन ने भी कपड़े उतार लिये और मात्र छोटे से अंडरवियर में आ गया। शेली ने एक नजर अर्जुन के लण्ड पर डाली। उसे देख कर उसे वो बहुत बड़ा लगा। अर्जुन भी शेली के मस्त उभारों को देखने लगा था। उसका हाल तो शेली की जवानी देख कर ही खराब हो गया था।

"ना... ना... कोई जरूरत नहीं है मुँह उधर करने की... !" शेली की नजर अब भी उसके मोटे फ़ूले हुये लण्ड पर थी। अर्जुन ने उसका मतलब भांप लिया और उसे एक झटके में फ़व्वारे के नीचे ले लिया। दोनों भीगने लगे थे, पर उनके दिलों में आग भड़कने लगी थी। अर्जुन ने शेली के गीले बदन को अपनी बाहों में ले लिया और उसे सहलाने लगा। इसी बीच शेली की ब्रा का एक भाग कंधे से उतर गया और उसका एक स्तन बाहर निकल पड़ा। जोश में अर्जुन ने उसके स्तन भींच दिये। जवाब में बस शेली के मुख से एक सिसकारी निकल पड़ी।

अर्जुन का भारी लण्ड तन कर सीधा खड़ा हो गया। शेली ने भी तड़प कर उसे खींच कर अंडरवियर से उसे बाहर निकाल लिया। उसे तो वो एनाकोन्डा जैसा मोटा लगा,"अर्जुन, यह तो ! हाय राम ! कितना मोटा है ! बिल्कुल एनाकोन्डा की तरह !"

"बस तुम्हारा ही है, इसे एक बिल चाहिये समाने के लिये !"

"चलो फिर कोशिश करते हैं इसे बिल में समाने की !" शेली मचलते हुये बोली।

दोनों ही हंस पड़े। वे दोनों नहा कर बाहर आ गये और वैसे ही आधे नंगे से गीले ही बैठ गये। अर्जुन ने व्हिस्की के दो पेग बनाया और पी गये। कुछ ही देर में दोनों में दारू की तरावट आने लगी।

"शेली, वहाँ होटल में तुम चुदाने गई थी ना?"

यह कहानी आप टॉप सेक्स वेबसाइट रूपसेक्स.कॉम (RoopSEX.CoM) पर पढ़ रहे हैं।

"जब मालूम है तो पूछते क्यों हो... जब प्यास लगे तो बुझानी तो पड़ती है ना !"
"उस मादरचोद को तो मजा आ गया होगा, भेन का लौड़ाऽऽ मेरी शेली को चोद गया !"

"धत्त, ऐसे क्या कहते हो, चूत को चुदानी ही पड़ती है ना ... तू भी चोद ले ... "

"वो तो भोसड़ी की, चुदेगी ही, मेरा लण्ड देख कितना जोर मार रहा है !"

"जरा पास ना , हाय तेरे एनाकोन्डा को मै अपनी चूत में छुपा लूँ... तू भी कितना चिकना है... साले के चिकने गालों को काट खाऊँऽऽ ... "

"तेरी मां की भोंसड़ी, आ बैठ जा मेरे एनाकोण्डा पर... "

अर्जुन का मन शेली के चूतड़ों पर आ चुका था, दूसरा पेग पीते हुये उसकी पिछाड़ी को उसने दबा दिया। उसकी पसन्द की थी उसकी मोटी गाण्ड ! उसे खींच कर उसके चूतड़ों पर अर्जुन ने अपने दांत गड़ा दिये। शेली भी अपने चूतड़ों को बार बार दांत से कटवा कर मस्ती से मचल रही थी।

"हाय शेली, तेरी गाण्ड ने तो मेरा जीना दुश्वार कर दिया था, आज मिली है, कसम से पूरी तबीयत से मारूँगा, गाण्ड मरवाओगी ना मेरी जान?"

शेली अपनी गाण्ड मटकाते हुए बोली,"आह्ह्ह, नेकी और पूछ पूछ ! मारो मेरे चोदू बालमा, तुम्हें कसम है जानू ! मेरी चूत को अपने दोस्त की नहीं, दुश्मन की चूत समझ कर चोदना !"

"सोच लो रानी ! फिर मुकर मत जाना?" अर्जुन अपने एमाकोन्डा जैसे लण्ड को हाथ में लेकर गरूर से बोला।

"मुकर भी जाऊँ तो भी तुम मुझ पर रहम मत करना, एक राण्ड की तरह फ़ोड़ना मुझे !" शेली इठलाती हुई बोली।

"हाय मेरी रण्डी यह हुई बात, चल झुक जा भेन की लौड़ी, तेरी गाण्ड में मेरा लण्ड घुसे तो चैन आए !" यह कहते हुये शेली को फ़र्श पर खड़ा करके बेड पर पर उसे झुकाते हुये लण्ड को गाण्ड के छेद पर प्यार से टिकाया।

"अब तक कितने लण्ड पिलवाये हैं गाण्ड में मेरी रानी?"

"हाय राम , अब क्या कहूँ मैं, जिससे भी चुदवाती हूँ, हर एक ने मेरी को बजाये बिना नहीं छोड़ा... "

यह कहानी आप टॉप सेक्स वेबसाइट रूपसेक्स.कॉम (RoopSEX.CoM) पर पढ़ रहे हैं।

"मैं भी नहीं छोड़ने वाला रण्डी, मां की भोसड़ी... " कहते हुये अर्जुन ने जो करारा थाप मारा कि पूरा लण्ड बिना थूक या तेल के गाण्ड में चाकू की तरह धंस गया।

आह्ह्ह्ह की चीख के साथ शेली उछल कर बेड पर जा गिरी,"हाय मार डाला साले, भेन चोद, मेरी जान ही निकाल दी... "

"मेरी रानी, इतना मस्त शॉट मारा था, इतनी दमदार गाण्ड ले कर किसी कमसिन की तरह चीखती हो।"

शेली अपनी गाण्ड सहलाते हुये बोली,"सुनो मिस्टर, मैंने तुम्हें अपनी गाण्ड चोदने को कहा था, गाण्ड की मां चोदने को नहीं कहा था ! साले हरामजादे तुम तो मेरी गाण्ड को फ़ाड़ डालने पर आमदा हो?"

"कमाल करती हो रानी, तुम्हारी गाण्ड बिल्कुल नहीं फ़टेगी, पूरा चिकन तन्दूरी खा गई और मेरे लौड़े से घबरा गई?"

"मुर्गा तो मैंने, भोसड़ी के, मुँह से खाया था, गाण्ड से नहीं, समझे?"

"अब खा लिया है तो निकलेगा तो गाण्ड ही से ना, मेरी रण्डी !"

"लगता है मेरी गाण्ड को फ़ाड़ कर ही मुर्गा निकालोगे, क्यों है ना?"

"ओह्ह्ह हो, डार्लिंग अब कायदे से मारूंगा !" कह कर वो तेल की शीशी उठा लाया और अपने लण्ड पर और शेली की गाण्ड में उसे अच्छी तरह से लगा दिया।

फिर लण्ड के लाल सुपारे को छिद्र पर सेट कर फिर से हौले धक्का मारा। लण्ड शेली की गाण्ड में ऐसे उतर गया जैसे मक्खन पर में छुरी घुसती है, दूसरे शॉट में पूरा लण्ड उसकी गाण्ड में फ़ंस गया। शेली के चूतड़ों पर सने तेल के कारण लण्ड हर एक थाप पर चप-छपक की आवाज कर रहा था। दोनों हाथों से उसके स्तनों को तेल से मसलते हुये अर्जुन गाण्ड का पूरा मजा ले रहा था,"कैसी हो मेरी रण्डी ... गाण्ड चुदने का मजा आ रहा है ना?"

"मार दे रे हारामजादे, फ़ाड़ डाल इन चूतड़ों कोऽऽ ! बजा दे गाण्ड का बाजाऽऽ आ ऽऽ ह !"

शेली की आंखों में दोगुना नशा था, एक तो अर्जुन की पिलाई हुई व्हिस्की का, और दूसरा उसकी गाण्ड में फ़ंसे हुये एनाकोन्डा का... !

शेली बिस्तर के सामने लगे आईने में देख कर रण्डी नम्बर एक जैसे भाव दिखा रही थी।

"हाय और मारो राजा, मेरे चोदू छैला, जोर से मारो मेरी गाण्ड, हाय रे तेरा मस्त लौड़ा, मैं तो हारामजादे रण्डी बन गई, हाय अर्जुन मुझे गालियाँ दे ! भेनचोद, रण्डी, चुदैल, छिनाल बुला मुझे साले ! तेरी मां की चूत !"

अर्जुन भी जोर जोर से मस्त करारे थाप मार रहा था।

"ले खा भोसड़ी की, मेरा लौड़ा खा जा, साली कुतिया तुझे तो एक दिन अपने रूममेट के साथ मिल कर चोदूंगा, भेन की लौड़ी, तुझे तो तेरी माँ के सामने चोद चोद कर तेरी चूत का भोंसड़ा बना दूँगा, तेरी मां दी फ़ुद्दी... हाय क्या गाण्ड है तेरी तो साली, तुझे तो कॉल गर्ल होना चाहिये था छिनाल !"

शेली भी बेशरमाई पर उतर आई थी। शराब का नशा, तिस पर चुदाई, वो तो बेहयाई पर आ चुकी थी,"गाण्डू, साले मुझे मेरी मां के सामने चोदेगा तो मम्मी भी नंगी हो कर तेरे नीचे लेट जायेगी, तेरे लण्ड को देख कर वो भी रण्डी बन कर तेरा लौड़ा खायेगी, मादरचोद साले चोद मुझे पटक पटक कर, रन्डी बना कर चोद सजना, आज हलाल कर दे मुझे, जैसे कसाई बकरे को हलाल करता है, तड़पने दे मुझे, तेरी तो भेन की चूत ! तेरी बहन चुदवा दूंगी तेरे लौड़े से !"

यह कहानी आप टॉप सेक्स वेबसाइट रूपसेक्स.कॉम (RoopSEX.CoM) पर पढ़ रहे हैं।

अर्जुन इस प्रकार की बातों से मदहोश हो रहा था, उसकी रफ़्तार बढ़ गई। शेली उसके नीचे मछली की भांति तड़प रही थी। वो शेली के चूतड़ों से चिपट कर उसकी गाण्ड तबीयत से मार रहा था, लण्ड पेल रहा था। इतनी तन्दरुस्त और सुंदर भारी गाण्ड पर रहम करना उसकी बेवकूफ़ी ही होती।

शेली भी उसे ऐसा कोई मौका नहीं दे रही थी कि वो उसकी गाण्ड को चोदना छोड़ दे। हर बात पर वो तो नहले पर दहला मार कर अपनी त्रिया चरित्र की मां चोद रही थी।

अचानक अर्जुन ने शेली के दोनों हाथ पकड़ कर पीछे खींच लिये और उसके ही दुपट्टे से ही बांध दिया और बोला,"देख मेरी शेली, मेरी रण्डी, मेरी छिनाल, तुझे अब मैं कैसे हलाल करके चोदता हूँ, मेरी जान, मेरी दोस्त मुझे माफ़ कर देना !"

शेली आंखे नचा कर और चूतड़ों को मटका कर बोली,"मेरे भैया की तरफ़ से मैं तुझे माफ़ करती हूँ। मेरे सरताज़, बस अब लगा दो पूरा जोर, मुझे कुतिया बना कर चोद दो और कुत्ते की तरह लण्ड गाण्ड में फ़ंसा दो, बरबाद कर दो मुझे, रण्डी से भी गई गुजरी कर दो हाय रे, मेरे चोदू रण्डवे, ऐसा चोदना कि गाण्ड और चूत में कोई फ़रक करना मुश्किल हो जाये !"

उसके बालों को पकड़ कर अर्जुन ने अपनी ओर खींच लिया, और इस बार का शॉट करारा था। शेली को लगा कि जैसे अर्जुन के एनाकोन्डा ने उसकी गाड फ़ाड़ कर रख दी है। उसके मुख से एक चीख निकल पड़ी, उसे लगा कि कोई आग का गोला गाण्ड की गहराई को भी फ़ोड़ता हुआ भीतर सुलग उठा हो। उसकी चीख को नजर-अन्दाज करते हुए उसका दूसरा भरपूर शॉट फिर से लगा।

वो तड़प उठी,"भोसड़ी के, मार डालेगा क्या ... साला लौड़ा है कि लोहे का गरम रॉड ... धीरे कर हरामी... मेरी मां चोद दी इस लण्ड ने तो !"

"चुप रह, कुतिया, अरे लण्ड लेना है तो लपक लपक कर ले, साली ऐसे चीख रही है कि जैसे तेरी माँ को चोद रहा हूँ !"

अब अर्जुन ने अपना मोटा लण्ड को खुला छोड़ दिया और उसकी गाण्ड पर पूरे जोर से पटकने लगा। कुछ ही देर में वो फिर से मस्त हो उठी और उसकी चूत लपलपाने लगी।

"बहुत हो गया मादरचोद ... मेरी चूत तेरा बाप चोदेगा क्या ?"

"ओह हाँ ! थोड़ा बहुत माल चूत के लिये भी तो बचाना पड़ेगा ना... चल अब सीधी हो जा !"

यह कहानी आप टॉप सेक्स वेबसाइट रूपसेक्स.कॉम (RoopSEX.CoM) पर पढ़ रहे हैं।

"नहीं, बहुत चोद लिया तूने ! अब मेरी बारी है ... चल मेरे नीचे हो कर चुद अब तू !"

शेली ने अर्जुन को अपने नीचे दबा लिया,"मादरचोद मेरी गाण्ड का तो तूने हलवा बना दिया, अब देख साले ! तैयार हो जा... मेरी चूत में कितना दम है तू ही देख ले !"

शेली उसकी टांगों के बीच बैठ गई। उसका हाथी की सूण्ड जैसा लण्ड उसने हिलाया। लाल सुपारा पूरे उफ़ान पर था, उस पर रह रह कर वीर्य की बूंदें उभर आती थी। यह देख कर वो मुस्कराई। उसने लण्ड जोर से अपनी चूत के द्वार पर थपथपाया और मुठ में भर कर उसे अपने योनि-द्वार में फ़ंसा लिया।

"तेरी मां की चूत, हो जा तैयार... देख तेरे लण्ड का कमाल मेरी चूत में... !" और उसने उसे चूत में घुसेड़ लिया। उसे एक झटके से भीतर उतार लिया और सिसक उठी। लण्ड के भीतर गहराई में फ़ंसने के बाद शेली ने बदला लेने की गरज से कहा,"ओ मेरी भेन के लौड़े, तैयार है चुदने के लिये... ?"

"ओह्ह्हो, बड़ा दम मार रही हो, मेरे एनाकोन्डा के सामने सब फ़ेल हो जाते हैं !"

"देखूँ तो सही... फिर लण्ड पकड़ कर हाय हाय मत करना ? !!"

और शेली ने अपनी कला दर्शा दी। उसने अपनी चूत जोर से भींच ली।

"मजा आ रहा है ना मेरे सजना ? इस कड़क चूत का... !"

"आह, कैसी मीठी मीठी सी चुदाई है !"

भींची हुई चूत उसने ऊपर खींची। अर्जुन चीख पड़ा... "अरे लण्ड की चमड़ी फ़ट जायेगी... तेरी माँ की बहन को चोदूँ, भोसड़ी की... आह !"

शेली ने अपनी भिंची चूत से अन्दर एक धक्का मारा। वो फिर से कराह उठा।

"अरे मेरी मां, ठीक से चोद ना !"

यह कहानी आप टॉप सेक्स वेबसाइट रूपसेक्स.कॉम (RoopSEX.CoM) पर पढ़ रहे हैं।

"मेरी कैसी फ़ाड़ी थी ... कुछ याद आया... ?"

शेली को भी अन्दर चोट पहुंच रही थी, पर अर्जुन को सबक तो सिखाना था ना ! उसने उसी अन्दाज में तीन चार धक्के लगाये, अर्जुन निढाल सा हो गया।

"बस मेरे राजा... अब मजा लो !" शेली ने भी अपनी जिद छोड़ दी। उसे भी तो मजा लेना था ना !

और शेली ने मस्ती की फ़ुहार छोड़ दी और भचाभच उसके लण्ड पर चूत मारने लगी। अर्जुन बहुत अधिक नहीं सह पाया और उसका वीर्य छूटने को हो गया।

तभी शेली का रज निकल पड़ा... वो उससे लिपट कर अपना रज निकालने लगी... पर उसने होश नहीं खोये। उसने तुरन्त अर्जुन का लण्ड चूत में से निकाल लिया और धीरे धीरे मुठ मारने लगी। उसके सुपारे पर उसने अपने अधर खोल कर रख दिये।

अर्जुन ने वीर्य छोड़ने से पहले एक हुंकार सी भरी और तीर की भांति उसकी पहली धार शेली के हलक तक पहुंच गई। उसने लल्दी जल्दी लण्ड को मसला और बाकी का ढेर सारा वीर्य अपने मुख में चूस लिया। अर्जुन झड़ कर निढाल पड़ा था। दारू का नशा भी उस पर पूरा था। शेली भी थक कर पास में लेट गई। कुछ ही देर में व्हिस्की ने अपना असर दिखा दिया और दोनों गहरी नींद में सो गये।

कमरे में मात्र खर्राटों की आवाजे आ रही थी। जहाँ जहाँ वीर्य के कतरे पड़े थे वो वहीं सूख गये थे। जब उठे तो शाम ढल चुकी थी। दोनों ने फिर से स्नान किया और एक एक करके व्हिस्की के कई जाम दोनों ने पी लिये और बचा हुआ तन्दूरी मुर्गा साफ़ कर गये। व्हिस्की का नशा उन दोनों पर एक बार और चढ़ गया ... और फिर कुछ ही पलों में कमरे में सिसकारियाँ गूंज उठी।

आप अपने बिचार यहाँ भेजें।

[email protected]
✉ Comment :
Enter Add Two Number :
1+1=
RogerLab RogerLab
Gender : 1 | Age : 37 | September 23, 2017, 3:39:25 AM
center for integrative medicine chicago buy belviq in canada north star behavioral health
Zyah Zyah
Gender : Male | Age : 2MMRDB0OLSM | September 22, 2017, 7:44:09 PM
Howardwer Howardwer
Gender : 1 | Age : 38 | September 22, 2017, 9:52:19 AM
cialis super active review cialis coupons cialis uses and side effects buy cialis online how long before sex to take cialis 20 mg
Jamesarrok Jamesarrok
Gender : 1 | Age : 42 | September 22, 2017, 8:19:08 AM
s cialis price each scene [url=http://cialisned.com]buy cheap cialis[/url] cialis
Sanne Sanne
Gender : Female | Age : yjEw3Y7cJv | September 22, 2017, 12:27:12 AM
Jacey Jacey
Gender : Other | Age : fxxAIXYSg3 | September 21, 2017, 9:50:38 PM
Tory Tory
Gender : Female | Age : 5g5RxtUwb | September 21, 2017, 5:28:20 PM